Author: editor

कहानी साहित्य

कोख़ में हत्या

अमन कुमार त्यागी सुधा को मुहल्ले भर के सभी बच्चे, जवान और बूढ़े जानते थे। सभी सुधा से बेहद लगाव रखते। सुधा भी तो सभी के दुःख दर्द में शरीक़ होती। वह कहती -दुःख बाँटना आत्मसंतुष्टि का परिचायक है।’ सौम्य, सुंदर, सुशील सुधा ने भले ही मायके में अमीरी के दिन देखे हों मगर ससुराल […]

Read More
संविधान

नंदलाल बोस की कूची से संविधान की सजावट

  कुमार कृष्णन आत्मा के उजास में सच को देखने और अभ्युदय का नया अध्याय रचने वाले मोहनदास करमचन्द्र गांधी का जीवन भारतीय जीवन मूल्यों में रची-बसी भरी-पूरी संस्कृति का आदर्श रहा है।स्वाधीनता के इस नायाब शिल्पी की शख़्सियत संवेदना के उन सूत्रों में गुंथी है, जहाँ मन के अथाह में शब्द, स्वर, रंग, लय […]

Read More
व्यक्तित्व

बापू के आह्वान पर आजादी की लड़ाई में कूदे शुभकरण चूड़ीवाला

  कुमार कृष्णन बीते सदी के दूसरे दशक की शुरूआत में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी स्वतंत्रता आंदोलन के केंद्र में आ गये थे और इससे उन्होंने आम लोगों से जोड़ा। यह वह दौर था, जब 21 मार्च 1919 को रोलेट एक्ट लागू किया गया, इसमें न अपील न दलील और न वकील की व्यवस्था थी। महात्मा […]

Read More
पुस्तक समीक्षा

साहित्यकार ऋषभ के व्यक्तित्व और कृतित्व का समग्र आकलन

    डॉ. सुषमा देवी नजीबाबाद (उत्तर प्रदेश) से प्रकाशित त्रैमासिक शोध पत्रिका ‘शोधादर्श’ द्वारा  हिंदी भाषा-साहित्य के चर्चित हस्ताक्षर प्रोफेसर ऋषभदेव शर्मा के रचना संसार पर आधारित विशेषांक ‘प्रेम बना रहे’ को पाँच खंडों में विभाजित करते हुए प्रकाशित किया गया है। प्रथम खंड ‘आखिन की देखी’ में प्रो.  ऋषभदेव शर्मा के सान्निध्य में […]

Read More
पुस्तक समीक्षा

‘शोधादर्श’ का विशेषांक : प्रेम बना रहे

    ✍️समीक्षक : डॉ. चंदन कुमारी गन्ने के गाँव खतौली से मोतियों के शहर हैदराबाद तक की संघर्ष और कामयाबी भरी अपनी यात्रा के विविध पड़ावों में जन-जन से संपर्क सूत्र साधते; सहज गति से अविराम मनःस्थिति के साथ निरंतर साहित्य सृजन में लीन और संगोष्ठियों में सदैव तत्पर रहनेवाले प्रो. ऋषभदेव शर्मा (1957) […]

Read More
2022 की पुुस्तकें ओेपन डोर प्रकाशन

कुछ लम्स कुछ गिरहें अमलतास

    पुस्तक का नाम – कुछ लम्स कुछ गिरहें अमलतास विधा – (काव्य संग्रह) कवि – अर्चना राज चैबे प्रकाशक – ओपन डोर, नजीबाबाद आईएसबीएन – 978-81-958838-0-6 प्रथम संस्करण – 2022 पुस्तक मंगाने का पता – साईं एंक्लेव, निकट धनौरा देवता, आयल डिपो रोड, नजीबाबाद-246763 मोबा.- 9897742814 इमेल- opendoornbd@gmail.com मूल्य – 200 रुपए (डाक […]

Read More
News

‘शक्ति की भाषा’ के रूप में उभर रही है हिंदी

  विश्व हिंदी दिवस पर अन्तरराष्ट्रीय संगोष्ठी संपन्न ‘शक्ति की भाषा‘ के रूप में उभर रही है हिंदी हैदराबाद। ‘हिंदी हैं हम विश्व मैत्री मंच’ और बद्रुका वाणिज्य एवं कला महाविद्यालय, काचीगुड़ा के संयुक्त तत्वावधान में ‘विश्व हिंदी दिवस’ का आयोजन महाविद्यालय परिसर में धूमधास से किया गया। आज यहाँ जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में […]

Read More
News

विश्व हिंदी दिवस : हिंदी ज्ञान-विज्ञान-कम्प्युटर की भाषा

  दिनांक-11.1.2023 खाजा बंदानवाज़ विश्वविद्यालय, कलबुर्गी के हिंदी विभाग द्वारा “आधुनिक संदर्भ में हिंदी के विविध आयाम” विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया । इस संगोष्ठी का आयोजन हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. देशमुख अफशाँ बेगम तथा सहायक प्रोफेसर डॉ. मिलन बिश्नोई द्वारा किया गया । इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि सुप्रसिद्ध साहित्यकार,संपादक […]

Read More
पुस्तक समीक्षा

तुलसी, राम और रामायण का नाता

*पुस्तक समीक्षा : डॉ. चंदन कुमारी* साहित्य, समाज और संस्कृति में रामकथा अनेकानेक रूप में विद्यमान है। जैसे हंस में नीर-क्षीर विवेक होता है वैसे ही हर प्राणी के मन में नीर-क्षीर की परिकल्पना तो होती है, पर उनमें यह परिकल्पना मत वैभिन्न्य के साथ होती है। जिसे जो भाता है उसे ही वह चुनता […]

Read More
शोध लेख

शोध कार्यों में साहित्यिक चोरी : कारण और निवारण

डॉ. मुकेश कुमार एसोसिएट प्रोफ़ेसर, वनस्पतिविज्ञान विभाग, साहू जैन कॉलेज, नजीबाबाद (बिजनौर) उ.प्र.   साहित्यिक चोरी का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। लगभग 2000 पूर्व, सन 80 में रोमन कवि मार्शल ने आरोप लगाया था कि उनकी कविताओं को अन्य व्यक्तियों ने अपने नाम से सुनाया था। रोमन कानून में इस प्रकार के कार्य करने […]

Read More