विश्वनाथ शुक्ल ‘चंचल’

 

चंचल जी पत्रकारिता के सशक्त हस्ताक्षर
इनके व्यवहार थे उत्तम ।
इन्होंने पत्रकारिता का बढ़ाया मान
इसे बनाया सर्वोत्तम ।
इनके पिता थे श्रीनाथ
ये थे विश्वनाथ ।
चंचल जी ने साहित्य को कभी न होने दिया अनाथ।
इनकी लेखनी थी अविरल पाठकों को दिया ज्ञान ।
ये पत्रकारिता में बनाई
विशिष्ट पहचान ।
आपने महामूर्ख सम्मेलन व कौमुदी महोत्सव का
किया था आगाज़ ।
ये महोत्सव काफी सफलता पाईं ये साहित्य _संस्कृति की बनी आवाज़ ।
आपका नाम गुंजायमान रहेगा जब तक रहेगा धरा _गगन।

आपके चरणों में मेरा शत-शत नमन ।

 


दुर्गेश मोहन

समस्तीपुर (बिहार)

One thought on “विश्वनाथ शुक्ल ‘चंचल’”

  1. I cling on to listening to the news broadcast lecture about receiving free online grant applications so I have been looking around for the top site to get one. Could you tell me please, where could i find some?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कविता

गुड़िया

गुड़िया मेरी गुड़िया हंसना, कभी ना तुम रोना । पापा _मम्मी की हो प्यारी, गुरुजन की हो राज दुलारी। सबकी कहना मानना , अच्छी बातें सीखना। मेरी गुड़िया हंसना, कभी ना तुम रोना। गुड़िया पढ़ी और पढ़ कर , वह की समाज का कल्याण। समाज आगे बढ़ा , गुड़िया बनी महान। मेरी गुड़िया हंसना , […]

Read More
साहित्य

धवन सहित तीन साहित्यकारों को मिला काव्य कलाधर सम्मान

  पटना। विश्व शाक्त संघ की ओर से गांधी मैदान,पटना, बिहार स्थित आईएमए हॉल में शाक्त धर्म के सम्मान एवं विश्वव्यापी जन कल्याण के लिए शाक्त धर्म की जागरूकता एवं आवश्यकता पर चर्चा के लिये 51वां शाक्त सम्मेलन का आयोजन किया गया।इसका उद्घाटन संघ के प्रधानमंत्री एडवोकेट राजेन्द्र कुमार मिश्र ने किया। अध्यक्षीय उद्गार में […]

Read More
फायकू साहित्य

दि ग्राम टुडे के नवरात्र स्पेशल फायकू विशेषांक का आनलाइन लोकार्पण

देहरादून।  दि ग्राम टुडे के नवरात्र स्पेशल फायकू विशेषांक का आनलाइन लोकार्पण मुख्य अतिथि साहित्यकार अमन त्यागी, विशिष्ट अतिथि डॉ.अनिल शर्मा ‘अनिल’, सतेन्द्र शर्मा ‘तरंग’ और संपादक शिवेश्वर दत्त पाण्डेय ने किया। मुख्य अतिथि, फायकू के प्रवर्तक,अमन त्यागी ने कहा कि सहज और सरल ढंग से नौ शब्दों में अपनी बात कहने के लिए फायकू […]

Read More