बापू के आह्वान पर आजादी की लड़ाई में कूदे शुभकरण चूड़ीवाला

 

कुमार कृष्णन

बीते सदी के दूसरे दशक की शुरूआत में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी स्वतंत्रता आंदोलन के केंद्र में आ गये थे और इससे उन्होंने आम लोगों से जोड़ा। यह वह दौर था, जब 21 मार्च 1919 को रोलेट एक्ट लागू किया गया, इसमें न अपील न दलील और न वकील की व्यवस्था थी। महात्मा गांधी ने 6 अप्रैल 1919 को देशभर में दमनकारी कानून की मुखालफत करते हुए हड़ताल का आह्वान किया और कहा कि-‘‘ जबतक यह कानून वापस न ले लिया जाए, सभ्यतापूर्वक मानने से इंकार दें।‘‘ इसी दौर में जालियांवाला कांड हुआ, जिसने अनेक लोगों को झकझोरकर रख दिया। रविन्द्रनाथ टैगोर ने सर की उपाधि ठुकरा दी। पूर्ण स्वराज का नारा बुलंद हुआ। इस आंदोलन को गति प्रदान करने के लिये बापू का भागलपुर आगमन हुआ। ऐतिहासिक टिल्हा कोठी, जहां अब रविन्द्र भबन है, वहां से आम सभा को संबोधित करते हुए पूर्ण स्वराज के लक्ष्य को हासिल करने के लिये आर्थिक स्वावलंवन, नैतिक सद्व्यवहार और कुप्रथाओं के उन्मूलन का आह्वान किया। गांधी जी के इस आह्व़ान ने शुभकरण चुड़ीवाला के जीवन दिशा ही बदल डाली। विदेशी कपड़े की होली जलायी तथा जंगे- आजादी में शरीक हो गये। इस सभा में देश सेवा का जो व्रत उन्होंने लिया यह सिर्फ मुल्क की आजादी तक ही नहीं, बल्कि देश आजाद होने के बाद उसका निरंतर निर्वहन करते रहे। संघर्ष, रचना, अनुशासन और सेवा यह उनके जीवन का लक्ष्य था।एकादश व्रत को पूरी तरह जीवन में उतार लिया था।
22 नवंबर1898 को जन्मे शुभकरण चुड़ीवाला ने सौ साल से अधिक की जिन्दगी जी। यह जिन्दगी अपने परिवार के लिये कम और देश तथा समाज के लिये ज्यादा। उनके गुजरे 20 वर्ष हो गये। पर उन्होंने पूर्व बिहार में जो मशाल जलायी, उससे चप्पा-चप्पा वाकिफ है। आज जब नैतिक मूल्यों का ह्रास निरंतर हो रहा है, सेवा भाव खत्म हो स्वार्थलोलूपता हावी है, वैसे दौर में शुभकरण बाबू की प्रासंगिकता और ज्यादा बढ़ गयी है। भागलपुर शहर के एक व्यावसायिक घराने में जन्मे शुभकरण बाबू का व्यवसाय उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में भी था। शुभकरण चूड़ीवाला के सिर से पिता का साया तीन वर्ष की उम्र में उठ गया।गोरखपुर में नाना और मामा के यहां इनकी परवरिश हुई। मिड्ल महाजनी की तालीम हासिल करने के बाद किशोरावस्था से ही इनका लगाव सामाजिक कार्यों से हो गया था।
आजादी की लड़ाई उत्तर प्रदेश में जहां दैनिक आज के संस्थापक संपादक बाबू शिवप्रसाद गुप्त, मदन मोहन मालवीय, पुरूषोत्तम दास टंडन, संपूर्णानंद, कमलापति त्रिपाठी, चंद्रभान गुप्त, आचार्य नरेन्द्र देव, हनुमान प्रसाद पोद्दार के सानिध्य में रहकर काम किये, वहीं भागलपुर में राय बहादुर वंशीधर ढांढानियां, दीपनारायण सिंह, पटलबाबू, चारू मजूमदार, प्रभुदयाल हिम्मतसिंहका, सियाराम सिंह, हरनारायण जैन, पंडित मेवालाल झा, रामेश्वर नारायण अग्रवाल, कैलाश बिहारी लाल, और रासबिहारी लाल आदि के साथ मिलकर काम किया। दीपनारायण सिंह और पटल बाबू की मौत के बाद स्वतंत्रता संग्राम के राष्ट्रीय नेताओं का केन्द्र स्थल उनका मारबाड़ी टोला स्थित आवास और मिरजानहाट स्थित व्यावसायिक प्रतिष्ठान बन गया। आजादी की लड़ाई के दौरान महात्मा गांधी सौकत अली और मोहम्मद अली के साथ भागलपुर स्थित टिल्हा कोठी आए और आम सभा को संबोधित किया तो उनके आह्वान पर उपस्थित जनसमूह के समक्ष अपने वदन पर पहने विदेशी कपड़े जलायी। वे उस सभा में चारूचंद मजूमदार के नेतृत्व में स्वयं स्वंय सेवक के रूप में तैनात थे। इसी सभा से आजीवन स्वदेषी का व्रत धारण किया। आजादी की लड़ाई के साथ-साथ अपने को भंगी मुक्ति आंदोलन, खादी के प्र्रचार, चरखा आंदोलन के साथ जोड़ दिया। इन्हीं दिनो उनकी अगुआयी में 1923 में समाज की विभिन्न समस्याओं पर विचार कर सामाजिक स्तर से समाधान करने के मकसद से मारबाड़ी सुधार समिति का गठन किया। इस संस्था की 1938 में इन्हीं की अध्यक्षता में हुई कार्यकारिणी की बैठक में युवाओं को आत्मरक्षार्थ स्वावलंवी बनाने की गरज से मारबाड़ी व्यायामशाला की वुनियाद डाली। युवाओं को रचनात्मक कार्यों के लिये प्रेरित किया। उनका मानना था कि केवल संघर्ष से परिवर्तन संभव नहीं है। इसके लिए रचना जरूरी है।
जब 1934 में बिहार में भयंकर भूकंप आया और मुंगेेर सहित बिहार के कई जिले प्रभावित हुए। मुंगेर के संदर्भ में उन दिनों ‘ द स्टेटसमेन’ में लीड खबर छपी कि-‘ मुंगेर सीटी इज नो मोर’। डॉ राजेन्द्र प्रसाद ने इन्हें बिहार रिलीफ कमेटी का सदस्य श्री चूड़ीवाला को बनाया। एक स्वयंसेवक की तरह तीन माह तक मलवे से शवों को निकालने और दाह संस्कार करवाने का काम किया। भूकंप से हुई तवाही और चलाये जा रहे राहत कार्यों का निरीक्षण करने महात्मा गांधी,पंडित जवाहरलाल नेहरू और डॉ राजेन्द्र प्रसाद पहुंचे तो इनके सेवा कार्यों की मुक्तकंठ से सराहना की।
आजादी की लड़ाई के दौरान संघर्ष में तो सक्रिय रहे ही, साथ ही स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों को आर्थिक मदद भी करते थे। 1937 में भागलपुर में अंग्रजी हुकूमत का दमन चक्र चल रहा था तो डॉ राजेन्द्र प्रसाद, अब्दुल बारी, बलदेव सहाय सरीखे लोगों के नेतृत्व में सत्याग्रह आंदोलन आरंभ किया गया। पुलिस द्वारा आंदोलनकारियों पर बर्वरतापूर्वक लाठियां बरसायी गयाी। इस हमले में राजेन्द्र बाबू सहित अनेक लोग घायल हुए। विहपुर का स्वराज आश्रम इस घटना का साक्षी है। डॉ राजेन्द्र प्रसाद ने अपने आत्मकथा में इस घटना का जिक्र किया है।घायल नेताओं को भागलपुर लाया गया और दल्लू बाबू के धर्मशाला तथा इनके निवास पर गुप्त रूप से इलाज चला। बिहपुर के सत्याग्रह ने राष्ट्रीय आंदोलन का रूप ले लिया। भागलपुर के विहपुर के स्वराज आश्रम और पटना स्थित सदाकत आश्रम के निर्माण में इनकी अहम् भुमिका रही।
जब राष्ट्रीय कांग्रेस का रामगढ़ अधिवेशन हुआ तो चुड़ीवाला और रामेश्वर नारायण अग्रवाल भोजन विभाग के प्रभारी बनाये गये। इस दौरान वे महात्मा गांधी के निकट संपर्क में आए। महात्मा गांधी के आह्वान पर असहयोग आंदोलन के दौरान श्री चूड़ीवाला ने जिला परिषद के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया। वे भागलपुर जिला परिषद् में सरकार के मनोनित सदस्य थे।
क्रिप्स मिशन की विफलता ने देश में गहरे असंतोष की भावना पैदा कर दी। 14 जुलाई 1942 को कांग्रेस कार्यसमिति ने एक प्रस्ताव का अनुमोदन किया, जिसमें भारत में बिट्रिश शासन तुरंत समाप्त करने की आवश्यकता घोषित की गयी। इस प्रस्ताव से समूचे देश में आंदोलन की लहर दौड़ पड़ी। 1942 के आंदोलन के दौरान वे भागलपुर, मुंगेर और संथालपरगना के संयोजक संचालक और कोषाध्यक्ष बनाये गये। स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान बिहार में सियाराम दल और परसुराम दल ने अंग्रेजों की नींद हराम कर दी थी। अंग्रेजों द्वारा इन पर सियाराम दल को मदद करने का आरोप लग चुका था। ये भूमिगत हो गये और जसीडीह के आरोग्य भवन में अपनी पत्नी गिनिया देवी के साथ फरारी जीवन व्यतीत किया। छह माह तक फरारी जीवन गुजारते हुए उन्होंने आंदोलन का संचालन किया। सियाराम सिंह, अनुग्रह नारायण सिंह, आचार्य वद्रीनाथ वर्मा, नंद कुमार सिंह,वासुकी राय,शिवधारी सिंह,श्यामा प्रसाद, राधवेन्द्र नारायण सिंह आदि लोगों के साथ गुप्त बैठकें होती थी तथा स्वतंत्रता आंदोलन की रणनीति तैयार होती थी और उसे अंजाम दिया जाता था। आखिरकार इसकी भनक खुफिया विभाग को लग गयी। तात्कालीन आरक्षी महानिरीक्षक की रिर्पोट पर भागलपुर के तात्कालीन अनुमंडलाधिकारी आर.एस पांडेय द्वारा आंदोलनकारियों की शिनाख्त नहीं किये जाने के कारण इनकी गिरफ्तारी नहीं हो सकी। 1942 के आंदोलन के दौरान भागलपुर शहर के बूढ़ानाथ रोड स्थित योगेन्द्र नारायण सिंह के निवास स्थान पर सवौर के पास डाइनामाइट से रेलवे लाइन को उखाड़ने की योजना बन रही थी। छापामारी के दौरान कई्र आंदोलनकारी पकड़े गये और ये भाग निकले। इनके द्वारा की गयी अर्थिक मदद आंदोलनकारियों को संवल करती प्रदान करती रही। आखिरकार कब तक बचते? 1943 को भरतमिलाप के दिन भागलपुर के मिरजानहाट से इनकी गिरफ्तारी हुई। इसी दिन इनकी द्वितीय पुत्री सुलोचना का जन्म हुआ।
1946 में जब सांप्रदायिक दंगा हुआ तो अमन चैन और सद्भाव कायम करने में अह्म भूमिका अदा की। 1948 में इनकी पत्नी गिनिया देवी का निधन हो गया। आजादी के बाद तो अपने को इन्होंने पूरी तरह से रचनात्मक कामों से जोड़ दिया। कभी सत्ता की राजनीति की ओर रूख नहीं किया जबकि अनेकों अबसर मिले।
जब देवघर के मंदिर में प्रवेश के लिये विनोवा भावे, निर्मला देषपांडे, विमला ठक्कर, लक्ष्मी बाबू आये तो इन पर हमला किया गया। इस घटना से वे दुखी हुए और इन्हें इलाज के लिये भागलपुर लाये।
इसके बाद जब विनोवा भावे भूदान आंदोलन के दौरान भागलपुर के जिला स्कूल आये तो इन्होंनेअपनी उपजाऊ कटोरिया की भूमि वोधनारायण मिश्र,सियाराम सिंह, प्रभुनाथ राय, ठाकुर भागवत् प्रसाद के साथ मिलकर भूमिहीनों के लिये दान में दे डाली।यदि इनके संदर्भ में यह कहा जाए वे व्यक्ति नहीं संस्था थे, तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। भागलपुर के मिरजानहाट हाईस्कूल की स्थापना में इनकी अहम् भूमिका रही। गांधी के रचनात्मक कार्यो के तहत और डॉ राजेन्द्र प्रसाद की प्रेरणा से 1925 में आजादी के आंदोलन के प्रमुख नेताओं दीपनारायण सिंह,सूर्यमोहन ठाकुर,कैलाश बिहारी लाल, रामेश्वर नारायण अग्रवाल, पटलबाबू के साथ मिलकर दीपनारायण सिंह की स्व पत्नी के नाम पर रामानंदी देवी हिन्दू अनाथालय की स्थापना की। इस संस्था में 1979 से मृत्युपर्यन्त अध्यक्ष रहे। महात्मा गांधी के आह्वान पर नवकुष्ठ आश्रम की स्थापना की। केएमएच होमियो मेडिकल कालेज की स्थापना काल से लंबे अरसे तक जुड़े रहे। 1957 के आम चुनाव में राष्ट्रीय कांग्रेस ने इन्हें उम्मीदवार बनाया, जब इन्होंने इनकार किया तो बनारसाी लाल झुनझुनवाला को उम्मीदवार बनाया गया। 1962 में निर्माणाधीन हनुमाना डैम के टूट जाने से प्रलयंकारी बाढ़ आयी तो उस दौरान जागेश्वर मंडल, डॉ सदानंद सिंह के साथ मिलकर छह माह तक राहत शिबिर का संचालन किया। गीता प्रेस गोरखपुर के तो वे सस्थापक ही थे। हनुमान प्रसाद पोद्दार के साथ मिलकर कोलकाता तथा मुंबई में काम किया। सहकारिता आंदोलन में तो उन्होंने अग्रणी भूमिका अदा की। जागेश्वर मंडल के साथ भागलपुर कापरेटिव मिल्क यूनियन की स्थापना की। स्वतंत्रता संग्राम में इनके अहम् योगदान को देखते हुए 15 अगस्त 1972 को तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने ताम्र पत्र देकर सम्मनित किया। फिर लोकनायक जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में 1974 का आंदोलन हुआ तो जयप्रकाश बाबू इनके आवास पर ही भागलपुर में ठहरते थे। इस आंदोलन में इनके पुत्र रामरतन चूड़ीवाला सक्रिय रहे। इस आंदोलन में भी युवाओं का मार्गदर्शन करते रहे।
जब कवि गोपाल सिह नेपाली का निधन भागलपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म दो पर हुआ तो उस समय उनकी पुत्री भंयकर रूप से बीमार थी। उसकी परवाह न करते हुए उनके घरवालो को बुलवाने से अंतिम संस्कार में बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। जीवन का शतक जब उन्होंने पूरा किया तो कई संस्थाओं ने सम्मानित किया। 103 वर्ष की अवस्था में 21 अगस्त 2001 को इनका निधन हो गया।
उनका मानना था कि शिक्षा का प्रसार और सामाजिक कुरीतियों को दूर कर ही हम तरक्की के रास्ते तय कर सकते हैं। इसके लिये हमेशा निर्धन छात्रो के लिये आर्थिक मदद का दरबाजा खुला रहता था। उनकी अध्ययन की निरंतरता को बनाये रखने में मदद की।
गांधीवादी पद्मश्री डॉ. रामजी सिंह कहते हैं – “गांधी जी की अपील पर आजादी की लड़ाई में शामिल होने वाले शुभकरण चूड़ीवाला ने सत्ता का भोग करने के बजाय अपना जीवन लोगों की सेवा में लगा दिया।” पलामू प्रमंडल के आयुक्त जटाशंकर चौधरी बताते हैं कि गांधी का मतलब इंसानियत को जिंदा रखना है और उसी मार्ग पर सदैव शुभकरण चूड़ीवाला अग्रसर रहे।

कुमार कृष्णन
स्वतंत्र पत्रकार
दशभूजी स्थान रोड, मोगल बाजार, मुंगेर, बिहार-811201
सचलभाष – 8210576040

One thought on “बापू के आह्वान पर आजादी की लड़ाई में कूदे शुभकरण चूड़ीवाला”

  1. Wow, amazing weblog format! How long have you ever been running a blog for?
    you made running a blog look easy. The entire look
    of your web site is wonderful, let alone the content material!

    You can see similar here dobry sklep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

व्यक्तित्व

पत्रकारिता के आधार स्तंभ : विश्वनाथ शुक्ल ‘चंचल‘

  भारतीय साहित्य एवं पत्रकारिता को आभामंडित कर ज्ञान की ज्योति जलाने में कामयाब साहित्यकार थे -विश्वनाथ शुक्ल चंचल। इनसे पाठकगण प्रभावित होकर ज्ञानार्जन और मनोरंजन प्राप्त करते थे ।चंचल जी का जन्म 20 जून ,1936 में हाजीगंज ,पटना सिटी में हुआ था। इनके पिता का नाम श्रीनाथ शुक्ल था। विश्वनाथ शुक्ल ‘चंचल’ की शिक्षा […]

Read More
व्यक्तित्व

जॉन फॉसे : अनकही को कह दिया जिसने!

  वयोवृद्ध लेखक सलमान रुश्दी के चाहने वालों को भले ही हताशा हुई हो, लेकिन नॉर्वेजियन लेखक जॉन फॉसे (1959) को साहित्य में 2023 का नोबेल पुरस्कार दिया जाना स्वागत योग्य और प्रशंसनीय है। बताया जा रहा है कि फॉसे गद्य और नाटक दोनों में माहिर हैं, और उनके काम की विशेषता इसकी काव्यात्मक भाषा, […]

Read More
व्यक्तित्व

पं. दीनदयाल उपाध्याय: व्यक्तित्व एवं कृतित्व

महान चिन्तक, कर्मयोगी, मनीषी एवं राष्ट्रवादी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय का भारत के राजनीतिक क्षितिज पर उदय एक महत्वपूर्ण घटना थी। वह देश के गौरवशील अतीत से भविष्य को जोड़ने वाले शिल्पी थे। उन्होंने प्राचीन भारतीय जीवन-दर्शन के आधार पर सामयिक व्यवस्थाओं के संबन्ध में मौलिक चिन्तन करके उन्हें दार्शनिक दृष्टिकोण से परिपूर्ण व्यावहारिक व्याख्यायें दीं। […]

Read More