सोनी चौधरी को मिथिला विभूति और मिथिला गौरव सम्मान से सम्मानित

मैथिली की प्रसिद्ध गायिका मिथिला की बेटी सोनी चौधरी को मिथिला के पारंपरिक लोकगीतों की बेहतर गायिकी के लिए सोमवार की शाम मिथिला विभूति सम्मानोपाधि से अलंकृत किया गया। विद्यापति सेवा संस्थान के तत्वावधान में आयोजित मिथिला विभूति पर्व समारोह में उन्हें यह सम्मान बिहार सरकार के जल संसाधन एवं सूचना व जनसंपर्क मंत्री संजय झा, कामेश्वर सिंह दरभंगा संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो शशिनाथ झा, शिक्षाविद् डा संत कुमार चौधरी, दरभंगा नगर विधायक संजय सरावगी, पूर्व विधान पार्षद प्रो दिलीप कुमार चौधरी आदि के कर-कमलों से प्रदान किया गया।
बता दें कि मैथिली मंच की सिद्धहस्त पारंपरिक लोक गायिका सोनी चौधरी शुभंकरपुर निवासी, ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त हिन्दी विभागाध्यक्ष डा रमाकांत झा की पुत्री एवं नेहरा ग्रामवासी गौड़ीशंकर चौधरी की पुत्रवधु हैं। उन्हें यह सम्मान मिलने से इलाके में हर्ष का माहौल कायम हुआ है।
सम्मान मिलने के बाद सोनी चौधरी ने बताया कि मैथिली के पारंपरिक लोक गीतों की गायिकी के लिए इस सम्मान से सम्मानित होकर अत्यंत गौरवान्वित महसूस कर रही हूं। उन्होंने कहा कि उनके संस्कार में रची बसी मातृभाषा मैथिली और पारंपरिक लोकगीतों के संरक्षण एवं संवर्धन के प्रति यह सम्मान उत्साह बढ़ाने का काम करेगा। मैथिली के पारंपरिक गीतों की उत्कृष्ट गायिकी के लिए वह इससे पहले अनेक राजकीय , राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय सम्मानों से नवाजी जा चुकी हैं।
इससे पहले 25 दिसंबर 2023 को मिथिलांचल सर्वांगीण विकास संस्थान बेनीपट्टी,के संस्थापक अमरनाथ झा के द्वारा त्रिदिवसीय विद्यापति समारोह के दौरान मैथिली गायिका सोनी चौधरी को “मिथिला गौरव सम्मान” से सम्मानित किया गया। मातृभाषा के लिए समर्पित होकर उत्कृष्ठ योगदान देने के लिए सोनी चौधरी को यह सम्मान दिया गया।
इससे पहले भी सोनी चौधरी को 3 जून, 2023 को बिहार की राष्ट्रीय युवा कल्याण परिषद के अध्यक्ष विश्वमोहन चौधरी ने पटना में आयोजित सम्मान समारोह में राज्य के दरभंगा ज़िले की कवयित्री और मैथिली लोक गायिका सोनी चौधरी को बेहतर गायिकी के लिये ‘बिहार रत्न सम्मान’से सम्मानित किया।
बेहतर गायिकी के लिये सोनी चौधरी को इससे पूर्व आकलन एवं कार्य निष्पादन मूल्यांकन परिषद, नयी दिल्ली द्वारा ‘संगीत रत्न सम्मान 2022’ व दतिया गुरुकुल (मध्य प्रदेश) द्वारा ‘सुर मधुकर सम्मान’ 2022 से नवाज़ा जा चुका है।
इनके अलावा सोनी चौधरी को अंग मदद फाउंडेशन भागलपुर द्वारा ‘तिलकामांझी राष्ट्रीय सम्मान’2019, जितेंद्र गुरु फिल्म्स, दतिया,मध्य प्रदेश के द्वारा “सर्वश्रेठ समाज चिंतक सम्मान” सृष्टि फाउंडेशन दरभंगा के द्वारा ” सृष्टि कला भूषण सम्मान 2023, दिल्ली प्रदेश भाजपा महिला मोर्चा के द्वारा “सशक्त नारी सम्मान” मिथिला शिक्षा मंच, समस्तीपुर द्वारा ‘स्वामी विवेकानंद युवा सम्मान’, बिहार शिक्षा एवं सांस्कृतिक विकास परिषद, पटना द्वारा ‘बिहार सम्मान’, महिनाथपुर की संस्था द्वारा ‘संत शिरोमणि लक्ष्मीनाथ गोसाई सम्मान’ जानकी कला महोत्सव ,दिल्ली के द्वारा “उर्विजा सम्मान” रामाश्रय सेवा संस्थान,शोभन,समस्तीपुर के द्वारा “रामाश्रय विशिष्ठ सेवा सम्मान,आदि से भी सम्मानित किया जा चुका है। ज्ञातव्य हो सोनी चौधरी दरभंगा निवासी अवकाश प्राप्त हिंदी के प्रोफेसर रमाकांत झा की पुत्री और नेहरा निवासी गौरी शंकर चौधरी की पुत्रवधु है।
सम्मान मिलने के बाद सोनी चौधरी ने बताया कि यह सम्मान उनके संस्कार में रची- बसी मातृभाषा मैथिली और पारंपरिक लोकगीतों के संरक्षण एवं संवर्धन के प्रति उत्साह बढ़ाने का काम करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

News

दुर्गेश मोहन का नोबुल टैलेंट इंटरनेशनल अवार्ड में चयन

  पटना। दुर्गेश मोहन बिहटा को कर्म क्षेत्र बनाकर साहित्यकार, शिक्षक में बखूबी सेवा दे रहे हैं। ये गद्य एवं पद्य में रचनाकर राष्ट्र की सेवा में तत्पर हैं ।इनका चयन नोबुल टैलेंट इंटरनेशनल अवार्ड 2024 में 50 चयनित कवियों में 07वें स्थान पर हुआ है । इससे शहरवासियों एवं साहित्य प्रेमियों में काफी हर्ष […]

Read More
News

एक गूंज सेवा समिति का स्थापना दिवस कार्यक्रम हर्षोल्लास के साथ मनाया गया

बरेली। जनपद बरेली में एक गूंज सेवा समिति का स्थापना दिवस कार्यक्रम अरबन कॉप्रेटिव बैंक (डी. डी. पुरम)के हॉल में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। एक गूंज सेवा समिति संस्था द्वारा उत्तर प्रदेश के 51 नवाचारी उत्कृष्ट शिक्षकों को राष्ट्र गौरव शिक्षक सम्मान प्रदान किया गया। कार्यक्रम में एमएलसी श्री महाराज सिंह, वन […]

Read More
News

एकदिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला संपन्न

पाठ लेखन के समय लेखक को स्वयं शिक्षार्थी लर्नर बनना ही होगा – प्रो. गोपाल शर्मा*   हैदराबाद, 29 दिसंबर, 2023 । “एस एल एम (सेल्फ लर्निंग मेटीरियल) या स्व-अध्ययन सामग्री ऐसी सामग्री है जिसे आदि से लेकर अंत तक छात्रकेंद्रित होना चाहिए। इस सामग्री को तैयार करते समय लेखक से लेकर संपादक, समन्वयक, परामर्शी […]

Read More