शुभा शुक्ला निशा के फायकू

मां है सदा
तुम्हारे लिए

देव प्रतिनिधि रूप मां
धरती पर आई
तुम्हारे लिए

वो सपने हजार लेके
जीवन में आती
तुम्हारे लिए

अपने सारे सुख दुख
भुला देती है
तुम्हारे लिए

स्वयं को वो सदा
पीछे रखती है
तुम्हारे लिए

जागती रहती है सदा
अपनी नींद भूला
तुम्हारे लिए

नटखट प्यारी अटखेलियो पे
होती हरदम निसार
तुम्हारे लिए

घायल हो जाते हो
खुद घायल होती
तुम्हारे लिए

स्वस्थ और दीर्घायु जीवन
उसकी पहली कामना
तुम्हारे लिए

दुनिया से भिड़ जाती
पति से लड़ती
तुम्हारे लिए

कभी कभी गलत भी
वो कर जाती
तुम्हारे लिए

उसे कोई भेद नहीं
बेटी या बेटा
तुम्हारे लिए

उसके जीवन की प्राथमिकता
सिर्फ तुम ही
तुम्हारे लिए

वक्त पड़े तो देगी
जान भी अपनी
तुम्हारे लिए

 

मान देना सदा उसे
तकलीफ सही उसने
तुम्हारे लिए

शुभा शुक्ला निशा रायपुर छत्तीसगढ़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

फायकू

अनिल अभिव्यक्ति का 151 वां अंक ‘फायकू विशेषांक’ प्रकाशित

अनिल अभिव्यक्ति के,सर्दी के फायकू विशेषांक ( फरवरी 2024) का आनलाइन लोकार्पण, फायकू के प्रवर्तक अमन कुमार त्यागी ( संपादक ओपन डोर,शोधादर्श) ने किया। इस अंक में सर्दी पर आधारित फायकू संकलित किये गये हैं। उन्होंने कहा कि अनिल अभिव्यक्ति का 151 वां अंक फायकू साहित्य में एक मील का पत्थर साबित होगा। इस अंक […]

Read More
फायकू

पवन कुमार सूरज के फायकू

विषय- जीवन 1. खाली आना खाली जाना, जीवन क्या पाना? तुम्हारे लिए। 2. उलझन का ताना-बाना, अंतिम एक ठिकाना, तुम्हारे लिए। 3. कभी हर्ष कभी विषाद, कहते सभी निर्विवाद, तुम्हारे लिए। 4. पहली श्वास अंतिम धड़कन, जीवन यह उलझन, तुम्हारे लिए। 5. एक समभाव होकर जीना, जीवन गरल पीना, तुम्हारे लिए। 6. कभी जय कभी […]

Read More
फायकू साहित्य

दि ग्राम टुडे के नवरात्र स्पेशल फायकू विशेषांक का आनलाइन लोकार्पण

देहरादून।  दि ग्राम टुडे के नवरात्र स्पेशल फायकू विशेषांक का आनलाइन लोकार्पण मुख्य अतिथि साहित्यकार अमन त्यागी, विशिष्ट अतिथि डॉ.अनिल शर्मा ‘अनिल’, सतेन्द्र शर्मा ‘तरंग’ और संपादक शिवेश्वर दत्त पाण्डेय ने किया। मुख्य अतिथि, फायकू के प्रवर्तक,अमन त्यागी ने कहा कि सहज और सरल ढंग से नौ शब्दों में अपनी बात कहने के लिए फायकू […]

Read More