गुड़िया

गुड़िया

मेरी गुड़िया हंसना,
कभी ना तुम रोना ।
पापा _मम्मी की हो प्यारी,
गुरुजन की हो राज दुलारी।
सबकी कहना मानना ,
अच्छी बातें सीखना।
मेरी गुड़िया हंसना,
कभी ना तुम रोना।
गुड़िया पढ़ी और पढ़ कर ,
वह की समाज का कल्याण।

समाज आगे बढ़ा ,
गुड़िया बनी महान।
मेरी गुड़िया हंसना ,
कभी ना तुम रोना ।
दुर्गेश मोहन
समस्तीपुर (बिहार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कविता साहित्य

विश्वनाथ शुक्ल ‘चंचल’

  चंचल जी पत्रकारिता के सशक्त हस्ताक्षर इनके व्यवहार थे उत्तम । इन्होंने पत्रकारिता का बढ़ाया मान इसे बनाया सर्वोत्तम । इनके पिता थे श्रीनाथ ये थे विश्वनाथ । चंचल जी ने साहित्य को कभी न होने दिया अनाथ। इनकी लेखनी थी अविरल पाठकों को दिया ज्ञान । ये पत्रकारिता में बनाई विशिष्ट पहचान । […]

Read More
कविता

गांधी जयंती के अवसर पर

  बाल-कविता महात्मा का स्मरण भारत माता ने महानतम पुत्र अनेक जने हैं। ‘बापू’ पद के अधिकारी बस मोहनदास बने हैं।। हम सब उनको आज महात्मा गांधी कहते हैं। भारत के जन गण के मन में सचमुच रहते हैं।। वे अपने जीवन में सबको प्रेम सिखाते थे। सत्य, अहिंसा में निष्ठा का मार्ग दिखाते थे।। […]

Read More
कविता

गुरु हमारे जीवन दाता

  माँ देती जन्म हमें, पिता देता साया हमें लेकिन गुरु देता सबसे अनमोल ज्ञान सिखाता मानवता का पाठ हमें। मानो गुरु एक है शिल्पकार, देते कच्ची मिट्टी को आकार- प्रकार, हैं भाग्य विधाता हमारा वे, ज्ञान का अविरल स्रोत जहाँ। सत्य – न्याय के पथ पर चलना जीवन के हर संघर्षों से, सिखाते हैं […]

Read More