अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस फायकू-विनोद शर्मा

 

1 .

ले आयी इक्कीसवी सदी
नारी शक्ति सम्मान
तुम्हारे लिए।

2.

आत्मविश्वास की जगी लहर
सदियों के बाद
तुम्हारे लिए।

3.

धरती नापी अंम्बर नापा
नाप सब संसार
तुम्हारे लिए।

4 .

आज स्वयं सिद्धा बनी
रही नहीं मोहताज
तुम्हारे लिए।

5 .

नये नये आयाम चुने
खड़े कीर्तिमान किये
तुम्हारे लिए।

विनोद शर्मा
धामपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

फायकू

रमेश माहेश्वरी राजहंस के फायकू

अमुवा की डाल पर, पड़ गया झूला, तुम्हारे लिए। सखियों ने गीत गाए, मिलकर संग में, तुम्हारे लिए। रात दिन हम जागे, सुबह शाम भागे, तुम्हारे लिए। लोगों ने खूब कहा, चुपचाप हमने सुना, तुम्हारे लिए। आज भी दिल में, वही प्यार है, तुम्हारे लिए। सोचिये, तुम भी जरा, सोच हमने लिया, तुम्हारे लिए। जग […]

Read More
फायकू

मतदान है अनिवार्य-सत्येन्द्र शर्मा ‘तरंग’,

  लोकतन्त्र का यही नारा, मतदान करे उजियारा, तुम्हारे लिए। हे! भारत के मतदाता, मतदान लोकतंत्र लाता, तुम्हारे लिए। मतदान करें नर-नार लोकतन्त्र की जयकार, तुम्हारे लिए। आयु हुई अट्ठारह वर्ष, मतदान का हर्ष, तुम्हारे लिए। छोड़कर अपने सब कार्य, मतदान है अनिवार्य, तुम्हारे लिए। भारत का पावन लोकतंत्र, विकास का मन्त्र, तुम्हारे लिए। हर […]

Read More
फायकू

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस फायकू-मधु माहेश्वरी

  1 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस का सुंदर आयोजन है तुम्हारे लिए। 2 अनगिन रूप तिहारे नारी तुझसे ही परिवार तुम्हारे लिए। 3 मातृशक्ति है गौरव तेरा नमन है बारंबार तुम्हारे लिए। 4 निज का तुम सम्मान करो पहचानो ख़ुद को तुम्हारे लिए। 5 दसियों रूप तुम्हारे भीतर अपनी सखी बनो तुम्हारे लिए। 6 ईश्वर  की […]

Read More