ग़ज़ल/आदित्य आजमी

ग़ज़ल

सिसक रही सदी लिखो कवि,
सूख रही है नदी लिखो कवि!

नेकी का तो पतन हो रहा है,
बढ़ रही है बदी लिखो कवि!

किसी दिन घर को गिरा देगी,
ये बुनियादी नमी लिखो कवि!

मंगल पर जाने की तैयारी है,
कम पड़ती जमीं लिखो कवि!

आधुनिकता के इस काल मे,
गुम हो गई हसी लिखो कवि!

यक़ीनन हिंदी और उर्दू दोनों
दो बहने हैं सगी लिखो कवि!

क्रांतिकारी मशाल जलायेगी,
चिंगारी जो दबी लिखो कवि!

कौन दिखाये दर्पण ‘आदित्य’,
कलम जब थमी लिखो कवि!

 

नाम आदित्य आजमी
शायर – गीतकार
ग्राम – हैदराबाद उर्फ छतवारा (बड़ा पुरा)
पोस्ट – चण्डेश्वर
जिला – आजमगढ़ उत्तर प्रदेश
पिन कोड- 276128
मोबाइल नं. – 9621983250

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

साहित्य

आधुनिक काल के जगमगाते साहित्यकार: सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

साहित्य जगत के आधुनिक काल के जगमगाते साहित्यकार सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का नाम अग्रगण्य है। इन्होंने साहित्य की महती सेवा कर इसे गौरवान्वित किया है ।सूर्यकांत त्रिपाठी निराला का जन्म 21 फरवरी 1899 को महिषादल रियासत (जिला मेदिनीपुर )में हुआ था। उनका वसंत पंचमी के अवसर पर जन्मदिन मनाने का श्री गणेश 1930 में हुआ […]

Read More
कविता

गुड़िया

गुड़िया मेरी गुड़िया हंसना, कभी ना तुम रोना । पापा _मम्मी की हो प्यारी, गुरुजन की हो राज दुलारी। सबकी कहना मानना , अच्छी बातें सीखना। मेरी गुड़िया हंसना, कभी ना तुम रोना। गुड़िया पढ़ी और पढ़ कर , वह की समाज का कल्याण। समाज आगे बढ़ा , गुड़िया बनी महान। मेरी गुड़िया हंसना , […]

Read More
कविता साहित्य

विश्वनाथ शुक्ल ‘चंचल’

  चंचल जी पत्रकारिता के सशक्त हस्ताक्षर इनके व्यवहार थे उत्तम । इन्होंने पत्रकारिता का बढ़ाया मान इसे बनाया सर्वोत्तम । इनके पिता थे श्रीनाथ ये थे विश्वनाथ । चंचल जी ने साहित्य को कभी न होने दिया अनाथ। इनकी लेखनी थी अविरल पाठकों को दिया ज्ञान । ये पत्रकारिता में बनाई विशिष्ट पहचान । […]

Read More