साहित्य

निबंध साहित्य

मजदूरी और प्रेम

– सरदार पूर्ण सिंह हल चलाने वाले का जीवन हल चलाने वाले और भेड़ चराने वाले प्रायः स्वभाव से ही साधु होते हैं। हल चलाने वाले अपने शरीर का हवन किया करते हैं। खेत उनकी हवनशाला है। उनके हवनकुंड की ज्वाला की किरणें चावल के लंबे और सुफेद दानों के रूप में निकलती हैं। गेहूँ […]

Read More
कहानी साहित्य

बस एक फ़ोन

-प्रगति गुप्ता “पूर्वा!दो तीन दिन से तेरे बारे में सोच रही थी बेटा।सोचा तुझे फ़ोन ही कर लूँ।आजकल मैं जयपुर आई हुई हूँ। तेरे अंकल की तबीयत कुछ ज्यादा खराब हो गई थी। तुम, विजय और बच्चे सब सकुशल तो हो ना बेटा। बहुत दिनों से कोई बातचीत भी नहीं हुई..कोई खास वज़हतो नहीं।”… सुदर्शना […]

Read More
कहानी साहित्य

मंजिलें ! और भी हैं ….।

       इस जिंदगी का भी ,कुछ पता नहीं है ..ना जाने ! कब किस मोड़ पर लाकर खड़ा कर दे…इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता है। जिंदगी में जब सब कुछ अच्छा चल रहा होता है, तभी अचानक एक झटका सा लगता है… और सारे समीकरण गड़बड़ा जाते हैं ,और आदमी […]

Read More
लघु-कथा साहित्य

जानकर महिला

सन्नाटे को चीरती हुई घर में सुमन की  जोर से आवाज आई – अरे वाह ! क्या बात है , आज मैं बहुत खुश हूँ । मैं बता नहीं सकती मुझे कैसा लग रहा है । ( ऐसा कहती हुई सुमन रसोईं बन्दकर कमरे की तरफ गई ) सुमन – हाय राम , जल्दी करूँ […]

Read More
पुस्तक समीक्षा साहित्य

जिंदगी के अनुभवों की परतें-स्टेपल्ड पर्चियाँ

भारतीय ज्ञानपीठ  प्रकाशन से प्रकाशित सुप्रसिद्ध लेखिका प्रगति गुप्ता का कहानी संग्रह ‘स्टेपल्ड पर्चियाँ’ जैसे बेशुमार अनुभवों का खजाना है। प्रत्येक व्यक्ति का जीवन अनेकानेक अनुभवों से गुजरता है। हर अनुभव एक कहानी बनकर उसकी स्मृतियों में स्टेपल होती रहती है और ऐसी कई कहानियाँ परत दर परत स्टेपल होकर कई गड्डियाँ बन जातीं हैं। […]

Read More
लघु-कथा साहित्य

निधि ‘मानसिंह’ की दो लघुकथा

1 ( इन्सानियत ) रघु, जितना हो सके उतनी तेज रिक्शा चला रहा था। अचानक दूर से एक व्यक्ति हाथ हिला कर उसकी ओर रिक्शा रोकने का इशारा करता हुआ दौडा चला आ रहा था। रघु ने रिक्शा रोकी तो वो आदमी बोला – उसे लाल बत्ती के पास वाले अस्पताल में जाना है। रघु […]

Read More
कविता साहित्य

अंकुर सिंह

हिंदी बने राष्ट्र भाषा हमारा हो निज भाषा पर अधिकार, प्रयोग हिंदी का, करें इसका विस्तार। निज भाषा निज उन्नति का कारक, निज भाषा से मिटे सभी का अंधकार।। हिंदी है हिंदुस्तान की रानी, हो रही अब सभी से बेगानी। अन्य भाषा संग, हिंदी अपनाओ, ताकि हिंदी संग ना हो बेमानी।। माथे की शोभा बढ़ाती बिंदी, निज भाषा जान हैं  हिन्दी। आओ मिल इसका करें विस्तार, […]

Read More
व्यक्तित्व साहित्य

लोकप्रिय गीतकार रामावतार त्यागी

  क्षेमचंद्र ‘सुमन’   ‘‘मेरी हस्ती को तोल रहे हो तुम, है कौन तराज़ू जिस पर तोलोगे? मैं दर्द-भरे गीतों का गायक हूं, मेरी बोली कितने में बोलोगे ?’’ त्यागी की ये पंक्तियां हालांकि मेरे लिए चुनौती हैं, फिर भी मैं उसकी हस्ती को तोलने और उसके दर्द-भरे गीतों की बोली बोलने की हिम्मत कर […]

Read More