सोशल मीडिया

 

जब से आया है मोबाइल, बदला है ये जमाना
देश विदेश की बातों को, घर बैठे हमने जाना
भूले हैं सभ्यता को, भूले हैं संस्कृति को ॥
दुनिया भर की बातें सीखीं, भूल गये अपनापन
सारा समय फोन को देते, अपनों से बिछड़े हम
बात न घर में करते, चैट लोगों से करते॥

ज्ञान किताबों में ही अर्जित, करते थे दिन रैन
अब तो सोशल मीडिया ने ही, लूट लिया सब चैन
हो गये आलसी थोड़े, काम भी कल पर छोड़े ॥

मां की लोरी संग बच्चों का, होता था सो जाना
अब तो मोबाइल बिन बच्चे, खाते नहीं हैं खाना
आउटडोर गेम न खेले, लूडो भी फोन में खेले ॥

दैनिक जीवन में बढ़ रहा, देखो इसका यूज़
कोई देखे न्यूज और, कोई करे मिसयूज
खोया बचपन का शोर है, सोशल मीडिया का जोर है ॥

सेल्फी, स्टेटस, फोटो का, बढ़ता जाता क्रेज
एफबी, इंस्टा पर सबके ही, अपने-अपने पेज
लाइक कमेंट का चक्कर, नन्द भाभी में टक्कर ॥

सोशल मीडिया का संग भाई, हमको बहुत ही भाया
कितने सारे मंच मिले हैं, और काव्य की माया
मिली कवियों की महफिल, ना हुए सपने धूमिल ॥

घर बैठे ही सारे, कवि सम्मेलन यह करवाये
देश-विदेश के कवियों से, यह मेरी भेंट कराये
प्रकाशित होती रचना, पूर्ण होता ये सपना ॥

विनीता चौरासिया
शाहजहाँपुर उत्तर प्रदेश

One thought on “सोशल मीडिया”

  1. Wow, fantastic weblog format! How long have you been running a blog for?
    you make blogging glance easy. The whole glance of your web site is great,
    let alone the content material! You can see similar here dobry sklep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कविता

गुड़िया

गुड़िया मेरी गुड़िया हंसना, कभी ना तुम रोना । पापा _मम्मी की हो प्यारी, गुरुजन की हो राज दुलारी। सबकी कहना मानना , अच्छी बातें सीखना। मेरी गुड़िया हंसना, कभी ना तुम रोना। गुड़िया पढ़ी और पढ़ कर , वह की समाज का कल्याण। समाज आगे बढ़ा , गुड़िया बनी महान। मेरी गुड़िया हंसना , […]

Read More
कविता साहित्य

विश्वनाथ शुक्ल ‘चंचल’

  चंचल जी पत्रकारिता के सशक्त हस्ताक्षर इनके व्यवहार थे उत्तम । इन्होंने पत्रकारिता का बढ़ाया मान इसे बनाया सर्वोत्तम । इनके पिता थे श्रीनाथ ये थे विश्वनाथ । चंचल जी ने साहित्य को कभी न होने दिया अनाथ। इनकी लेखनी थी अविरल पाठकों को दिया ज्ञान । ये पत्रकारिता में बनाई विशिष्ट पहचान । […]

Read More
कविता

गांधी जयंती के अवसर पर

  बाल-कविता महात्मा का स्मरण भारत माता ने महानतम पुत्र अनेक जने हैं। ‘बापू’ पद के अधिकारी बस मोहनदास बने हैं।। हम सब उनको आज महात्मा गांधी कहते हैं। भारत के जन गण के मन में सचमुच रहते हैं।। वे अपने जीवन में सबको प्रेम सिखाते थे। सत्य, अहिंसा में निष्ठा का मार्ग दिखाते थे।। […]

Read More